आज जानेंगे की पाइका विद्रोह से जुड़ी कुछ एहम बातें ?

आज जानेंगे की पाइका विद्रोह से जुड़ी कुछ एहम बातें ?


पाइका विद्रोह होने के क्या कारण थे?

 

पाइका विद्रोह सन 1817 पूर्वी ओडिशा में हुआ था जिसे ब्रिटिश शासन के खिलाफ पहली क्रांति माना जाता है. जिसमे पाइका दल ने बक्शी जगबंधु बिद्याधर के नेतृत्व में अंग्रेजों के खिलाफ बगावत की हिम्मत की थी. साथ ही पाइका विद्रोहियों को कनिका, कुजंग, नयागढ़ और घुमसुर के राजाओं, जमींदारों, ग्राम प्रधानों और आम किसानों का समर्थन भी प्राप्त था. यह विद्रोह बहुत तेजी से नजदीकी अन्य इलाकों जैसे पुर्ल, पीपली और कटक में फैल गया था .

आपको बता दे की कुछ लड़ाइयों में पाइका विद्रोहियों को विजय भी मिली थी , लेकिन तीन महीनों के अंदर ही अंग्रेजों ने उन्हें पराजित कर दिया था .साल 1817 का यह विद्रोह भारत के लोगो के स्वाभिमान की रक्षा का विद्रोह था इसलिए अंग्रेजो ने इस क्रांति को दबा दिया था. ताकि भारत पर अपना वो राज कायम रख सके.

 

अब जानते है की पाइका विद्रोह होने के कारण क्या थे?

 

किराए पर मुक्त भूमि लेना जो कि उनकी सैन्य सेवा के लिए पाइका को दिया गया था .
नमक की कीमत में वृद्धि
कर के भुगतान के लिए cowrie currency का Abolition.
एक अतिव्यापी extortionist(हड़पने वाला) land revenue policy

तो यह थी चार बड़ी वजहें जिसके कारण पाइका विद्रोह हुआ था . साथ ही इससे पहले पाइका विद्रोह को भारत के इतिहास में पहली क्रांति के रूप में मान्यता नहीं मिली थी. लेकिन अब यानी इसी साल 2018 में इसे आधिकारिक रूप से भारत सरकार ने मान्यता दे दी है.मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावेदकर द्वारा इस विद्रोह को “आजादी का पहला युद्ध” घोषित किया गया और अगले सत्र से अकादमिक हिस्ट्री बुक्स में जोड़ दिया गया है.

 

Read This Article : जानते है आखिर क्या है नीति आयोग ?

 

For more such informative articles stay tuned to OWN TV

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.